महत्‍त्‍वपूर्ण आलेख

गुरुवार, 20 अगस्त 2015

इतना तो सोचना ही चाहिए कि--

  • ''कुछ और बनने से पहले हम एक 'नैसर्गिक मनुष्‍य' बनेंगे, तो बात बनेगी और जिन्‍दगी संबंधों की कड़ुवाहट से बाहर निकल आएगी।''
------
  • ''जो भी हम देखते-सुनते हैं उस पर कम से कम अपने अनुसार सोचने की जरूरत तो होनी ही चाहिए। भीड़ के हिसाब से चलना हानिकारक तो होगा ही।''
------
  • ''धर्मगुरु या गुरुमाताएं जब अपने चमत्‍कार से करोड़ों प्रशंसक और पैसे बटोर सकते हैं, तो क्‍या ये कानूनी पकड़ से बचने की युक्ति-शक्ति नहीं प्राप्‍त कर सकते? पकड़े जाने पर इनके चमत्‍कार बंद-कुंद क्‍यों हो जाते हैं?''
विकेश कुमार बडोला

5 टिप्‍पणियां:

  1. कम से कम अब इतना तो हो रहा है कि धर्म के नाम पर ठगने वालों की सच्चाई खून जोर-शोर से सामने आ रही है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बिलकुल सच कहा है...सटीक चिंतन

    उत्तर देंहटाएं
  3. मौलिक सोच का होना जरूरी है ... सार्थक चिंतन ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. सोचना तो चाहिए ही पर न जाने क्यूँ लोग इस विषय में कुछ भी सोचना समझना ही नहीं चाहते।

    उत्तर देंहटाएं

Your comments are valuable. So after reading the blog materials please put your views as comments.
Thanks and Regards