Saturday, February 2, 2013

मृत-अमृत

कभी-कभी लगता है / कि यह संसार सपना है / रात को कभी देखता हूं / तो लगता है सब मृत हैं / तब यह कैसे हो सकता है / कि आकाश अमृत है / वह भी तभी तक जीवित है / जब तक मैं उसे देख पा रहा हूं / धरती को कब उपस्थित रहना है सदा प्राणियों के लिए / वह भी तभी तक है / जब तक किसी की सांसों में दम है / जैसे ही किसी की / अन्तिम सांस भी उखड़ी / मानो सब कुछ उजड़ गया / पर किस के साथ समय ऐसा है / जो वास्‍तविकता बतलाए / सभी तो ऐसे हैं मग्‍न / जैसे वे हमेशा ऐसे ही रहेंगे / मौसम बदलेगा, आयु बढ़ेगी मिटने के लिए / साथ कौन है किसी के, सदा चलने के लिए / और एक दिन अचानक / विक्रम सांसें जब ऐसे फूलेंगी / कि छाती फट पड़ने को तैयार हो / तब थकावट होगी / और विराम लग जाएगा भावों, भावनाओं पर / अन्‍त में / सिर्फ कुछ याद करने का प्रयास रह जाएगा / पनीली आंखों में / वे भी ज्ञान दे जाएंगी / प्राणी की अन्तिम इच्‍छा का / खुली रहीं तो मृत्‍यु कठिन लगी / और बन्‍द हैं / तो एक और गहरी पीड़ा को / हंस के सह लिया। 
मृत-अमृत रहस्‍य


8 comments:

  1. नींद मृत्यु और जगना जीवन का परिचायक है..

    ReplyDelete
  2. यही तो जीवन है |उम्दा सोच
    आशा

    ReplyDelete
  3. मृत-अमृत के बीच ही जीवन भी है.

    ReplyDelete
  4. काश, सभी यह समझ पायें...बहुत गहन अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  5. प्रकाश ओर अन्धकार ... जीवन ओर जीवन की माया ... कुछ तो भ्रम रहता ही है श्रृष्टि भी तो रहस्य ही है ...

    ReplyDelete
  6. अनंत की खोज को बेचैन मन

    ReplyDelete
  7. अलका गुप्ताMarch 18, 2013 at 10:54 PM

    अनंत की खोज को बेचैन मन

    ReplyDelete

Your comments are valuable. So after reading the blog materials please put your views as comments.
Thanks and Regards