Sunday, January 6, 2013

सर्द रातें जब पहरा देने लगेंगी

सर्द रातें जब पहरा देने लगेंगी
तभी लम्‍बी नींद से पहले....
क्‍या हम अनुभव करेंगे?
बेघर लोगों के ठिठुरते मनोभावों को,
और नींद में.....
फिर स्‍वप्‍न में.....देख सकेंगे
उनकी आंखों में....
उनके  मनुष्‍य होने का सन्‍देह?
ऐसे बेघर लोगों  के लिए
धनवान तो भगवान हैं
और भगवान......
न जाने उनके लिए क्‍या हों!
पर कभी धनवान जान सकेंगे?
कि ये बेघर आत्‍माएं उनके लिए क्‍या हैं?

No comments:

Post a Comment

Your comments are valuable. So after reading the blog materials please put your views as comments.
Thanks and Regards